About us
   कर्मयोगी पं० राम किशोर त्रिपाठी
   (5 अप्रैल 1924 - 16 फरवरी 2011)

कर्मयोगी पं० राम किशोर त्रिपाठी जी का जन्म 05 अप्रैल 1924 चैत्र रामनवमी के दिन ठठेरी बाजार सुलतानपुर में हुआ था। श्री देवदत्त त्रिपाठी जी आपके पिता और श्रीमती अभिराजी देवी आपकी माता थी। विसंगतियों और अभावो के कारण केवल मिडिल स्कूल तक की शिक्षा ग्रहण कर सके। पण्डित जी की पत्नी का नाम श्रीमती संवारी देवी और एक मात्र संन्तान पुत्री श्रीमती हीरारानी जी है। वास्तव में पण्डित जी का जीवनवृत्त शून्य से शिखर की यात्रा का जीवन्त दस्तावेज है। विभिन्न अभावों से जूझते हुए उन्होंने सत्पथ का मार्ग नही छोड़ा इसलिए उनकी जीवन यात्रा लोक मंगल के कर्मपथ से होती हुई मानवता के समग्र विकास की यात्रा कही जा सकती है। मनुष्य का परिस्कार करने वाली शिक्षा को उन्होंने सर्वजन सुलभ बनाने की दिशा में प्रशंसनीय उपक्रम किये। इसीलिए उन्हें 'महामना मालवीय' की उपाधि से विभूषित किया गया है।

  • => 1943 में आर्यकुमार सभा का गठन ।

  • => 1945 में कांग्रेस प्रतिनिधि के रूप में चुनाव ।



  • => 1948 में उ० प्र० फारवर्ड ब्लाक के स्वागताध्यक्ष ।

  • => 1949 में उ० प्र० कांग्रेस कमेटी के प्रतिनिधि चुने गये ।

  • => 1957 में जिला सहकारी बैंक के संचालक सदस्य ।

  • => 1962 में आर्य समाज के मंत्री चुने गये ।

  • => 1964 में रामलीला ट्रस्ट समिति के अध्यक्ष चुने गये ।

  • => 1967 में गनपत सहाय महाविद्यालय की स्थापना में सहयोग ।

  • => 1968 जिला कोआपरेटिव बैंक के डाइरेक्टर ।

  • => 1973 में सन्त तुलसीदास महाविद्यालय की स्थापना ।

  • => 1994 में महात्मा गाँधी स्मारक महाविद्यालय कूरेभार एवं 1999 में आचार्य विनोवा भावे महाविद्यालय छीड़ा, अमेठी जैसे अनन्त सामाजिक एवं राजनैतिक , सांस्कृतिक एवं शैक्षणिक संकल्पों में असाधारण सहयोग करते हुये समाज में अपनी अमित छाप छोड़ते हुए 16 फरवरी 2011 को ब्रह्मलीन हो गये ।